Important समश्रुति भिन्नार्थक Samsruti Bhinnartahk In Hindi : हिन्दी व्याकरण

Important समश्रुति भिन्नार्थक samsruti binnartahk in Hindi : हिन्दी व्याकरण हिंदी में अनेक ऐसे शब्द युग्म है जिनके उच्चारण में बहुत हे कम अंतर होता है। इसलिए ये समान प्रतीत होते है, कित्नु इनके अर्थ भिन्न भिन्न होते है। कुछ समश्रुति भिन्नार्थक यहाँ दिए जा रहे है ; समश्रुति भिन्नार्थक ( Similar Words with Different […]

Important 100+ Anekarthak shabd अनेकार्थक शब्द- Homonyms in Hindi : हिन्दी व्याकरण

Important 100+ Anekarthak shabd अनेकार्थक शब्द – Homonyms in Hindi : हिन्दी व्याकरण हिंदी में कुछ शब्द ऐसे है, जिनके एक से अधिक अर्थ होते है। विभिन्न प्रसंग के वाक्यों में प्रयुक्त होकर वे अलग – अलग अर्थ देते है। ऐसे अनेकार्थक शब्द यहाँ दिए जा रहे है; Anekarthak shabd ( अनेकार्थक शब्द ) अंबर […]

Important सूक्ष्म अर्थ भेद वाले शब्द (Suksham Arth Bhed Wale Shabd ) : हिन्दी व्याकरण

important सूक्ष्म अर्थ भेद वाले शब्द (suksham arth bhed wale shabd ) : हिन्दी व्याकरण प्रायः पर्यायवाची शब्दों का अर्थ एक जैसा लगता है, परन्तु उनमे थोड़ा बहुत अंतर होता है। अधिकांश पर्यायवाची शब्द एकार्थक न होकर मिलते जुलते अर्थ वाले होते है। यह ऐसे हे शब्द दिए गए है, जो समानार्थक प्रतीत होते हुए […]

200+ Vilom Shabd in Hindi (Antonyms) विलोम शब्द : हिन्दी व्याकरण

important 300+ Vilom Shabd in Hindi (Antonyms) विलोम शब्द | विपरीतार्थक शब्द : हिन्दी व्याकरण जो शब्द अर्थ की दृष्टि से एक दूसरे का विपरीत अर्थ है ; विलोम शब्द या विपरीतार्थक शब्द कहते है। यहाँ कुछ विलोम शब्द या विपरीतार्थक शब्द दिए जा रहे है, – कुछ विलोम शब्द ( vilom Shabd ) Antonyms […]

important 300+ Paryayvachi Shabd (पर्यायवाची शब्द) – synonym in Hindi

important 300+ Paryayvachi Shabd (पर्यायवाची शब्द) – synonym in Hindi एक सा अर्थ बताने वाले शब्दों को पर्यायवाची शब्द कहते है । पर्यायवाची शब्द के अर्थों मे और प्रयोग में कभी कभी अंतर होता है । प्रयोग करते समय इसका उचित ध्यान रखना चाहिए।ऐसा नही करने से कभी कभी वाक्य ग़लत बन जाते है, क्योंकि […]

vilom

Vilom Shabd in Hindi – Antonyms विलोम शब्द ( 1000+) भाषा के द्वारा हम अपने मन के भावों या विचारों को दूसरों के सामने बोलकर या लिखकर प्रकट करते हैं। एक मनुष्य का दूसरे से संपर्क का सबसे उत्तम साधन भाषा है। इशारों अथवा संकेतों को भाषा नहीं कहा जाता है, क्योंकि इनसे बात स्पष्ट […]

viram chinh

Viram Chinh (विराम चिन्ह) in Hindi – परिभाषा, प्रकार, उदाहरण और उनका प्रयोग विराम किसे कहते हैं ?  विराम का अर्थ है – रुकना या ठहरना ।  किसी भी भाषा को बोलते समय बीच – बीच में या अंत में भी हम कुछ क्षणों के लिए रुकते हैं ; अर्थात् एक भाव की अभिव्यक्ति के […]

वाक्य – विचार

वाक्य – विचार जिस प्रकार वर्णों के मेल से शब्द बनते हैं , उसी प्रकार शब्दों के मेल से वाक्य बनते हैं । हम मन के भावों और विचारों को व्यक्त करने के लिए सार्थक शब्दों को व्याकरण के नियमों में बाँधते हैं , तब वाक्य की रचना होती है ।  यदि हम स्वतंत्र या […]

विस्मयादिबोधक और निपात interjection and Nipat

विस्मयादिबोधक और निपात ( interjection and Nipat ) विभिन्न मनोभावों को प्रकट करने वाले शब्द ‘ विस्मयादिबोधक अव्यय ‘ होते हैं । निम्नलिखित वाक्यों को पढ़िए और समझिए :  ( क ) हाय ! मेरा पाँव टूट गया ।  ( ख ) हे भगवान ! हमारी सहायता करना ।  ( ग ) बाप रे बाप […]

समुच्चयबोधक Conjunction )

समुच्चयबोधक Conjunction ) समुच्चयबोधक भी एक अविकारी शब्द है । समुच्चयबोधक को ‘ योजक ‘ भी कहा जाता है । योजक का अर्थ ‘ जोड़ने वाला ‘ होता है ; अर्थात् समुच्चयबोधक अव्यय शब्दों , वाक्यों या वाक्यांशों को आपस में जोड़ता है ।  ( क ) विशाल और तमन्ना खेल रहे हैं ।  ( […]