कारक Case

  1. पुलकित ने गृह – कार्य कर लिया ।
  2. इंदिरा को पुस्तक दी । 
  3. गीता ने साबुन से हाथ धोए । 
  4. रूपा बेटे के लिए जूते लाई । 
  5. कुलदीप कक्षा से निकला । 
  6. अरे वाह अनूप ! प्रतियोगिता जीतकर आखिर तुम विद्यालय का मान रखने में सफल हो ही गए ।

उपर्युक्त वाक्यों में ने , को , से , के लिए , से , की , में , अरे कारक के चिह्न हैं । इन्हें विभक्तियाँ कहते हैं । 

कारक संज्ञा या सर्वनाम का क्रिया के साथ संबंध जोड़ते हैं । 

कारक के द्वारा संज्ञा या सर्वनाम का वाक्य के अन्य शब्दों के साथ संबंध स्पष्ट होता है । 

कारक के भेद ( Kinds of the Case )

कारक के आठ भेद होते हैं । इन आठों भेदों के नाम एवं उनके विभक्ति चिह्न निम्नलिखित तालिका में दिए गए हैं

कारक तालिका

कारक

विभक्ति - चिन्ह

वाक्य में प्रयोग

कर्त्ता

ने

तमन्ना ने गीत गया।

कर्म

को

नेता जी ने तमन्ना को पुरस्कार दिया।

करण

से, द्वारा

मालिक ने नौकर से चाय मँगवाई।

सम्प्रदान

को, के लिए

पिता जी विशाल के लिए कपडे लाये।

अपादान

से ( अलग होना )

विधार्थी स्कूल से निकले।

सम्बन्ध

का, के, की, रा, रे, री

मोहन का लड़का भाग गया।

अधिकरण

में, पर

मेज पर पुस्तक रखी है।

सम्बोधन

हे !, अरे !

हे राम ! हमारी रक्षा करो !

( 1 ) कर्ता कारक – कर्ता का अर्थ है — कार्य करने वाला । किसी वाक्य में क्रिया करने वाले को कर्त्ता कहते हैं । कर्ता कारक से क्रिया के करने वाले का बोध होता है ; जैसे-

अजय ने खाना खाया ।

इस वाक्य में खाना खाने का कार्य अजय ने किया है । इसलिए ‘ अजय ‘ इस वाक्य में कर्ता है । अजय के साथ कर्ता कारक की विभक्ति ‘ ने ‘ लगी है । 

कर्ता कारक के साथ अनेक बार विभक्ति चिह्न ‘ ने ‘ का प्रयोग नहीं होता ; जैसे — प्रकाश सो गया । 

इस वाक्य में सोने का कार्य ‘ प्रकाश ‘ द्वारा हुआ है । इसलिए प्रकाश कर्ता है । इस वाक्य में कर्ता की विभक्ति नहीं लगी । 

अकर्मक क्रियाओं के साथ ‘ ने ‘ विभक्ति नहीं लगती । 

वर्तमानकाल और भविष्यत्काल में भी कर्ता के साथ ‘ ने ‘ विभक्ति नहीं लगती ; 

जैसे गीतांजली जा रही है । अंकुर विद्यालय जाएगा । 

( 2 ) कर्म कारक – जिस संज्ञा शब्द पर क्रिया का फल पड़ता है , उसे कर्म कारक कहते हैं ; जैसे 

अंशु ने पल्लवी को गणित पढ़ाया । 

इस वाक्य में ‘ पल्लवी ‘ कर्म है । ‘ पढ़ाया ‘ क्रिया का फल ‘ पल्लवी ‘ पर पड़ रहा है । पल्लवी कर्म के साथ कर्म कारक का विभक्ति चिह्न ‘ को ‘ लगा है । 

कई बार कर्म कारक के साथ ‘ को ‘ विभक्ति चिह्न नहीं लगता ; जैसे 

विजयप्रकाश जी ने भाषण दिया । 

( 3 ) करण कारक – करण का अर्थ साधन या माध्यम होता है । कर्ता जिस साधन या माध्यम से क्रिया करते हैं , उसे करण कारक कहते हैं ; जैसे 

असीम ने पेन से लिखा । सायरा ने घी से सब्जी बनाई । 

( 4 ) संप्रदान कारक – संप्रदान शब्द का अर्थ है – देना । कर्ता जिसे कुछ देता है अथवा जिसके लिए कुछ करता है , इसे बताने वाला शब्द संप्रदान कारक कहलाता है ; जैसे 

नीलांजना माता जी के लिए साड़ी लाई । अपर्णा ने मीता को पुस्तक दी । सत्येंद्र पुत्र के लिए कुरुक्षेत्र गया । 

इन वाक्यों में नीलांजना , अपर्णा और सत्येंद्र कर्ता हैं । ये माता जी , मीता और पुत्र के लिए कार्य करते हैं ।

( 5 ) अपादान कारक – अपादान का अर्थ है – अलग होना । संज्ञा या सर्वनाम के जिस रूप से एक वस्तु का दूसरी वस्तु से अलग होने का या तुलना करने का बोध होता है , उसे अपादान कारक कहते हैं ; जैसे 

गिलास मेज से गिर गया । दुकानदार ने बोरी से चावल निकाला । सरोज अनुपमा से अच्छा गाती है ।

( 6 ) संबंध कारक – संज्ञा या सर्वनाम के जिस रूप से वस्तुओं या व्यक्तियों में संबंध का पता चले , उसे संबंध कारक कहते हैं ; जैसे 

मेरा विद्यालय आ गया । काजी एजाज आरिफ का भाई है ।

इन वाक्यों में मेरा ‘ , ‘ आरिफ का ‘ शब्द संबंध कारक हैं । 

( 7 ) अधिकरण कारक – अधिकरण का अर्थ है – क्रिया का आधार या आश्रय । संज्ञा या सर्वनाम के जिस रूप से क्रिया के आधार , स्थान या समय का पता चले , उसे अधिकरण कारक कहते हैं ; जैसे 

रीना कुर्सी पर बैठी है । महेशचंद कक्षा में आ गया । बस में भीड़ है । 

( 8 ) संबोधन कारक – संज्ञा के जिस रूप से पुकारने और संकेत करने का ज्ञान होता है , उसे संबोधन कारक कहते हैं ।

वाह भाई ! तुमने तो कमाल कर दिया । 

हाय अल्लाह ! कैसी मुसीबत आ गई ? 

अरे ! यह चित्र तुमने बनाया है ? 

इन वाक्यों में वाह , हाय , अरे शब्द संबोधन के लिए प्रयुक्त हुए हैं । इसलिए ये संबोधन कारक हैं ।